Tuesday 11th August 2020

  • Digitizing the world
  • महिला टी-20 वर्ल्डकप : इंग्लैंड ने एक बार फिर तोड़ा भारत का सपना, सेमीफाइनल में मिली हार

    bcci women t20 worldcupमहिला टी-20 वर्ल्ड कप में अभी तक एकतरफा शानदार प्रदर्शन करने के बाद भारत को इंग्लैंड के हाथों सेमीफाइनल में हार का सामना करना पड़ा है. इंग्लैंड ने भारत को 8 विकेट से मात देकर फाइनल में अपनी जगह बना ली है. भारतीय क्रिकेट टीम ने महिला टी-20 वर्ल्ड कप में खेले गए सेमीफाइनल मैच में इंग्लैंड को 113 रनों का लक्ष्य दिया था. सर विवियन रिचर्डस स्टेडियम में शुक्रवार (23 नवंबर) को मैच में भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 19.3 ओवरों में अपने सभी विकेट गंवाकर 112 रनों का स्कोर खड़ा किया था. इंग्लैंड की टीम में इस लक्ष्य को दो विकेट के नुकसान पर 17.1 ओवर में ही हासिल कर लिया.

    8 साल बाद सेमीफाइनल में पहुंची थी टीम इंडिया
    बता दें कि भारतीय महिला क्रिकेट टीम के सामने उसी इंग्लैंड की चुनौती थी, जिसने एक साल पहले भारत को वनडे विश्व कप का खिताब जीतने से रोका था. अब एक बार फिर इंग्लैंड ने टीम इंडिया को फाइनल में पहुंचने से रोक दिया है. भारतीय महिला क्रिकेट टीम 8 साल बाद इस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में पहुंची थी. इंग्लैंड की टीम तीन बार आईसीसी महिला टी-20 विश्व कप फाइनल में पहुंचने का कमाल भी कर चुकी है.

    फाइनल में इंग्लैंड का मुकाबला ऑस्ट्रेलिया से
    इंग्लैंड की महिला क्रिकेट टीम को 2009 के पहले ही सीजन में खिताब अपने नाम कर लिया था, लेकिन उसके बाद 2012 टी-20 विश्व कप और 2014 टी-20 वर्ल्ड कप में ऑस्ट्रेलिया की महिला टीम ने इंग्लैंड का फिर से चैंपियन बनने का सपना तोड़ दिया था. अब एक बार फिर वह फाइनल में पहुंच गई है. इंग्लैंड का मुकाबला फाइनल में ऑस्ट्रेलिया के साथ होगा.

    भारत ने इंग्लैड को दिया था 113 रनों का लक्ष्य
    स्मृति मंधाना (34) ने भारतीय टीम को अच्छी शुरुआत दी लेकिन वह अधिक देर तक मैदान पर नहीं टिक सकी. सोफी एक्लेस्टोन ने 43 के स्कोर पर स्मृति को पवेलियन का रास्ता दिखाया. टीम के खाते में 10 रन ही जुड़ पाए थे कि सलामी बल्लेबाज तान्या भाटिया (11) भी पवेलियन लौट गईं. उन्हें हीथर नाइट की गेंद पर नटाली स्कीवर ने कैच आउट किया.

    जेमिमाह रोड्रिग्ज (26) ने कप्तान हरमनप्रीत कौर (16) के साथ टीम की पारी को संभालने की कोशिश की. दोनों ने 36 रनों की साझेदारी कर टीम को 89 के स्कोर तक पहुंचाया लेकिन इसी स्कोर पर टैमी ब्यूमाउंट और एमी जोन्स ने जेमिमाह को रन आउट कर भारतीय टीम का तीसरा विकेट भी गिरा दिया. हरमनप्रीत ने इसके बाद भारतीय टीम की अनुभवी बल्लेबाज वेदा कृष्णमूर्ति (2) के साथ टीम को मजबूत करने की कोशिश की लेकिन क्रिस्टी जॉर्डन ने इस योजना को विफल कर दिया. जॉर्डन ने 93 के स्कोर पर वेदा को जोन्स के हाथों कैच आउट कर पवेलियन भेजा. 16वें ओवर की पहली गेंद पर वेदा का विकेट गिरा और इसी ओवर की आखिरी गेंद पर क्रिस्टी ने हरमनप्रीत को भी पवेलियन का रास्ता दिखा दिया.

    छठे विकेट के लिए दीप्ति शर्मा (7) और डेलन हेमलता (1) मैदान पर उतरीं लेकिन इंग्लैंड टीम की कप्तान नाइट ने यहां भारतीय टीम को बड़ा झटका दिया. उन्होंने 99 के कुलयोग पर पहले हेमलता को और उसके बाद इसी स्कोर पर अनुजा पाटिल को पवेलियन की राह दिखाई. अनुजा खाता भी नहीं खोल पाई थीं. भारतीय टीम ने 100 का आंकड़ा पार करने से पहले ही अपनी सात बल्लेबाजों को गंवा दिया.इसके बाद दीप्ति का साथ देने आईं राधा यादव (4) भी अधिक समय तक मैदान पर नहीं टिक पाईं और 104 के स्कोर पर रन आउट होकर पवेलियन लौट गईं.

    भारतीय टीम के खाते में आठ रन ही जुड़ पाए थे कि सोफी ने इस मैच में अपने दूसरे विकेट के रूप में अरुणधति रेड्डी (6) को आउट किया. रेड्डी का विकेट 112 के स्कोर पर गिरा और इसी स्कोर पर इंग्लैंड की गेंदबाजों ने दीप्ति को भी रन आउट कर भारतीय टीम की पारी समाप्त कर दी. इंग्लैंड के लिए कप्तान नाइट ने सबसे शानदार गेंदबाजी करते हुए नौ रन देकर तीन विकेट हासिल किए. इसके अलावा, सोफी और क्रिस्टी को दो-दो सफलाएं हासिल हुईं. भारतीय टीम की तीन बल्लेबाज राधा, दीप्ति और रोड्रिगेज रन आउट हुईं.

    वेस्टइंडीज से बदला पूरा कर फाइनल में ऑस्ट्रेलिया
    वहीं, दूसरी ओर अपनी गेंदबाजों के उम्दा प्रदर्शन के दम पर ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम ने वेस्टइंडीज को 71 रनों से हराकर महिला टी-20 वर्ल्ड कप के फाइनल में प्रवेश कर लिया. ऑस्ट्रेलिया ने पिछले टी-20 वर्ल्ड कप के खिताबी मुकाबले में वेस्टइंडीज से मिली हार का बदला भी पूरा कर लिया है. टॉस हारकर बल्लेबाजी करने उतरी ऑस्ट्रेलिया ने निर्धारित ओवरों में पांच विकेट के नुकसान पर 142 रन बनाए. इसे लक्ष्य को वेस्टइंडीज की टीम हासिल नहीं कर पाई और 71 रनों पर ही सिमट गई.

    ऑस्ट्रेलिया की टीम बल्लेबाजी में अच्छा कमाल नहीं दिखा पाई. टीम के लिए एलीसा हेली (46) ने सबसे अधिक रन बनाए. इसके अलावा, कप्तान मेग लानिंग (31) और रेचेल हेनस (25) ने अहम योगदान दिया. हेनस नाबाद रहीं. इस पारी में वेस्टइंडीज के लिए शकीरा सेलमन, कप्तान स्टेफनी टेलर, हैली मैथ्यूज, एफी फेचर और डेंड्रा डोटिन को एक-एक विकेट हासिल हुआ.

    लक्ष्य का पीछा करने उतरी वेस्टइंडीज को ऑस्ट्रेलिया के गेंदबाजों के आगे असहाय देखा गया. कप्तान स्टेफनी (16) के अलावा कोई भी बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा भी पार नहीं कर पाई और 71 रनों पर ही मौजूदा विजेता टीम की पारी ढेर हो गई.

    वेस्टइंडीज को 71 रनों पर ढेर करने में ऑस्ट्रेलिया के लिए एलिस पैरी, डेलिसा किमिंस औ? एश्ले गार्डनर ने अहम भूमिका निभाई. तीनों ने दो-दो विकेट हासिल किए. इसके अलावा, मेगन स्कट, सोफी मोलिनेक्स और जॉर्जिया वारेहाम को एक-एक सफलता मिली. ऑस्ट्रेलिया की खिलाड़ी एलिसा हेली को ‘प्लेयर ऑफ द मैच’ का पुरस्कार दिया गया. यह इस टूर्नामेंट में उनका चौथा पुरस्कार था.

     

  • Cheap Website Design india, Software development India
  • Samriddhi technology-Digitizing the world
  • Official Facebook Page